अनुदेशकों पर मेहरबान, कस्तूरबा टीचर्स पर सरकार मौन